आईपीएस अधिकारी व पुलिस बल पर किया पथराव, चार महिला सहित 7 लोगों पर किया प्रकरण दर्ज

0
133
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567

नागदा जं.। कोविड 19 – कोरोना संकरण के इस दौर में कोरोना संक्रमण से जनता को बचाने मे लगे योध्दाओ पर पथराव करने की बात देशभर में आम हो रही है । लेकिन जनता इन योद्धाओं के मेहनत को भुल गई है। अब आम जनता के हौसले इतने बुलंद हो गये हैं कि पुलिस द्वारा गिरफ्तार होने का विरोध भी पथराव कर करने लगे हैं ।

ऐसी ही एक घटना प्रशिक्षु आईपीएस अभिनव चौकसे के साथ भी घटी है । बिरला ग्राम थाना क्षेत्र मे आने वाले टकरावदा गांव में रास्ते को लेकर हुवे विवाद को सुलझाने के लिये पहुंचे थे। जहां ग्रामीणो मे विवाद इस कदर हो रहा था की ग्रामीणो को यह भी नही दिखा की पुलिस अधिकारी की बात सुने ओर विवाद को खत्म कर दे अपितु उल्टा ग्रामीणो ने पुलिस पर ही पथराव कर दिया वही पुलिस वाहन पर भी पत्थराव कर वाहन को क्षति पहुचाई है।

ए एन आई न्यूज़ इंडिया को सीएसपी मनोज रत्नाकर ने जानकारी देते हुवे बताया की गुरुवार की रात लगभग एक बजे के करीब बिरला ग्राम थाना क्षेत्र मे आने वाले ग्राम टकरावदा जो शहर से लगा हुवा गाव है में दो पक्षो में रास्ते से आने जाने की बात को लेकर विवाद हो गया था । विवाद बढ़ने पर ग्रामीणो ने घटना की सूचना बिरला ग्राम थाने पर दी। सूचना मिलने ही बल तत्काल टकरावदा गांव के लिए रवाना हो गया । बल के पहुंचने पर मामला शांत था । ग्रामीणो ने बताया कि उन्हें 108 से अस्पताल लेकर गई है । जिसके बाद पुलिस बल वहां से लौट आया। पुलिस के लौटने के थोड़ी देर बार ग्रामीणो ने डायल 100 पर फोन कर विवाद बढ़ने की सूचना दी ।

जहां डायल 100 पर तैनात आरक्षक गोपाल चावला ने थाना मोबाईल को सूचना दी की किसी अन्य पाईट पर हूं मुझे जाने में देरी हो जाएगी इसलिए मोबाईल पुलिस गांव में पहुंचे । जिसके बाद मोबाईल पुलिस गांव में पहुंची जहां देखा कि विवाद कर रहा व्यक्ति राजेश शराब के नशे में धुत था। पुलिस के पूछने पर आरोपी राजेश ने पुलिस से अभद्रता कर कहने लगा कि हां मेने मारा है इसमें पुलिस क्या कर लेगी और आरोपी ने हेड कांस्टेबल राजाराम के साथ झूमा झटकी करने लगा । जिस पर पुलिस ने राजेश को गिरफ्तार कर थाने ले जाने जिसे देख महिलाओं ने एकत्रित हो पुलिस के आगे खड़े हो कर रास्ता रोक लिया । स्थिति को बिगड़ता देख पुलिस जवान ने अपने उच्च अधिकारी चौकसे को घटना से अवगत कराया ।

जानकारी लगने के बाद आधी रात कुछ बल के साथ आईपीएस मौके पर पहुंचे । जहां आईपीएस ने ग्रामीणों से बात कर समझा। जब पुलिस राजेश को ले जाने लगी तभी ग्रामीण फिर एकत्रित हो रोकने लगे व राजेश भी बीमारी की नौटंकी कर बेहोश हो गया। आरोपी को अस्पताल ले जाना जरूरी हो गाया और पुलिस आरोपी को वाहन में ले जाने लगी इसी बीच ग्रामीणो ने पथराव कर दिया जिससे पुलिस वाहन का कांच टूट गया तो वहीं एक पत्थर आईपीएस अभिनव चौकसे को आ लगा जिससे उन्हे आंख के नीचे चोट आई ।

जिसके बाद पुलिस आरोपी को लेकर शासकीय अस्पताल पहुंची जहाँ बीएमओ कमल सोलकी ने जांच कर पुष्टि की है कि आरोपी को किसी भी प्रकार की कोई बीमारी नहीं है और आरोपी शराब के नशे में है । जिसके बाद पुलिस आरोपी को लेकर थाने पहुंची जहां आरोपी पर शासकीय कार्य में बाधा , पथराव करवाने , मारपीट सहित धारा 353, 332, 347, 427, 136 में प्रकरण पंजीबद्ध किया है।

डॉ.कमल सोलकी ने जानकारी देते हुवे बताया है की आई पी एस चौकसे की आँख पर लगी चोट गहरी है दो टांके लगाने पड़ सकते है क्यो की आखों का मामला है।

कोई जवाब दें