अवैध तौर से मंहगे दाम पर बेचा जा रहा 72 टन यूरिया जब्त, गोदाम सील कर कलेक्टर को भेजा प्रतिवेदन, एसडीएम को नहीं दी जानकारी

0
274
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ मुलताई, जिला बैतूल 

  • वह वेयर हाउस जिसे सील किया गया है। 
  • कार्रवाई की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया। 

मुलताई। नगर से खेड़लीबाजार मार्ग पर ग्राम चंदोराखुर्द के पास स्थित लीलावती वेयर हाऊस में अवैध तौर पर बढ़े हुए मूल्य पर यूरिया खाद बेचकर जरूरत मंद किसानों का शोषण किया जा रहा था। शिकायत के बाद इस मामले में कृषि विभाग द्वारा कार्रवाई करते हुए वेयर हाऊस गोदाम को सील किया गया है।

विभाग द्वारा 72 टन यूरिया जब्त करना बताया जा रहा है। विभाग द्वारा उक्त कार्रवाई का प्रतिवेदन कलेक्टर को भेजा गया है, मामले में आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि उक्त कार्रवाई की जानकारी एसडीएम को नहीं दी गई। इस मामले में लोगों ने शुक्रवार को एसडीएम को ज्ञापन सौंप कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

यूरिया के नाम पर किसानों से लूट का खेल खुलेआम पिछले कई दिनों से चल रहा था। जिसमें कृषि विभाग द्वारा कार्रवाई की गई है। इधर वेयर हाऊस संचालक पर कार्यवाही की मांग सपा के पदाधिकारी अनिल सोनी द्वारा की गई है। बताया जा रहा है कि खेड़ली बाजार के व्यापारी कमल साहू यूरिया के अधिकृत विक्रेता हैं जिन्हे खेड़ली बाजार में ही खाद बेचना चाहिए, लेकिन नियम विरूद्ध उनके द्वारा मुलताई के समीप स्थित लीलावती वेयर हाऊस से किसानों को यूरिया खाद बढ़े हुए मूल्य पर बेचा गया। जबकि शासन द्वारा स्पष्ट निर्देश हैं कि यूरिया खाद निर्धारित मूल्य पर ही बेचा जाना है। 

शिकायतकर्ता के अनुसार व्यापारी कमल साहू के द्वारा मुलताई क्षेत्र में यूरिया बेचने के लिए संबन्धित विभाग से विधिवत अनुमति लेना था लेकिन बिना अनुमति के लीलावती वेयर हाऊस में यूरिया खाद का भारी स्टाक किया गया जो खुलेआम नियमों का उल्लंघन है। शिकायतकर्ताओं ने बताया कि प्रशासन द्वारा तत्काल गोडाऊन सील करके उसमें बड़ी मात्रा में रखा यूरिया खाद जब्त किया जाना आवश्यक है। उन्होने बताया कि पूर्व में भी उक्त गोडाऊन के माध्यम से गेेंहू की कालाबाजारी की गई थी। 

380 रुपए में बेची गई खाद की बोरिया

किसानों ने बताया कि इस गोदाम से पिछले एक सप्ताह से लंबे समय से 380 रुपए में यूरिया खाद की बोरी बेची जा रही है। प्रति बोरी 114 रुपए ज्यादा लिए जा रहे थे। जब किसानों द्वारा इस मामले में शिकायत की बात कही गई तो उन्हें खाद नहीं देने की धमकी दी गई थी। जिसके कारण किसानों द्वारा शिकायत नहीं की गई। किसानों ने बताया कि बाजार में खाद की कमी बनी हुई है। यूरिया खाद ढूंढने से नहीं मिल रहा है। इसलिए मजबूरीवश उनके द्वारा महंगा खाद लिया गया। किसानो ने भी इस मामले में उचित कार्रवाईकी मांग की हैै। 

एसडीएम बोले कार्रवाई की जाएगी 

इस मामले को लेकर जब एसडीएम सीएल चनाप से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उन्हें इस मामले की शिकायत मिली है। जो कार्रवाई की गई है, उसकी जानकारी कृषि विभाग द्वारा उन्हें नहीं दी गई है। उन्होंने बताया कि महंगे दामों पर यहां से खाद बेचा जा रहा था, ऐसी शिकायते भी प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा इस बिंदु को लेकर भी जांच की जाएगी कि इस गोदाम से खाद बेचा जा सकता था या नहीं, वहीं खाद को इस गोदाम में भंडारण किया जा सकता है या नहीं, यह भी देखा जाएगा। यदि महंगे दामों पर खाद बेचा गया है तो निश्चित कार्रवाई की जाएगी।

कोई जवाब दें