अब साथिया केंद्र से दिनचर्या को बेहतर बनाएंगे किशोर-किशोरी खेल-खेल में जागरूक किए जा रहे हैं बच्चे, इस बारे में दी जा रही है जानकारी !

0
210
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

ब्यूरो चीफ पन्ना // पुण्य प्रताप सिंह परमार 9425167855

पवई – राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम मध्यप्रदेश के पन्ना जिले मैं बेहतर तरीके से किशोर किशोरियों को स्वास्थ्य संबंधित जानकारी हर किशोर किशोरी तक पहुंचा रहा है जिसमें पन्ना जिले के पवई ब्लाक अंतर्गत राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम नंबर 17 के प्रशिक्षक करण सिंह और अर्चना खरे हर गांव के किशोर किशोरियों को आरकेएसके के बारे मैं एवं स्वास्थ्य संबंधित जानकारी बच्चों तक पहुंचा रहे हैं वही उनका कहना है की भारत मे 10 से 19 वर्ष की आयुवर्ग के लड़के/लड़कियों की आबादी देश की कुल जनसंख्‍या की 1/5 है और 10 से 24 वर्ष की आयुवर्ग के लड़के/लड़कियों की आबादी देश की कुल जनसंख्‍या की 1/3 है। किशोरों की बेहतर सेहत पर ध्‍यान दिए बिना एक युवा देश की परिकल्‍पना भी नहीं की जा सकती।

2014 की शुरूआत में भारत सरकार की ओर से किया गया राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम किशोरों की बेहतर सेहत के तथ्यो को ध्यान मे रखकर बनाया गया है। आरकेएसके के अनुसार शहरी और ग्रामीण इलाकों के 10 से 19 वर्ष तक के व्यक्ति (चाहे वह लड़का हो या लड़की, विवाहित हो या अविवाहित, गरीब हो या अमीर, स्कूली छात्र/ छात्रा हों या स्कूल छोड़ चुके हो) किशोर कहलाएंगे।

भारत मे 10 से 19 वर्ष की आयुवर्ग के लड़के/लड़कियों की आबादी देश की कुल जनसंख्‍या की 1/5 है और 10 से 24 वर्ष की आयुवर्ग के लड़के/लड़कियों की आबादी देश की कुल जनसंख्‍या की 1/3 है। किशोरों की बेहतर सेहत पर ध्‍यान दिए बिना एक युवा देश की परिकल्‍पना भी नहीं की जा सकती।2014 की शुरूआत में भारत सरकार की ओर से किया गया राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम किशोरों की बेहतर सेहत के तथ्यो को ध्यान मे रखकर बनाया गया है। कार्यक्रम का शुभारंभ केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री गुलाम नबी आजाद ध्वारा किया गया था आरकेएसके के अनुसार शहरी और ग्रामीण इलाकों के 10 से 19 वर्ष तक के व्यक्ति (चाहे वह लड़का हो या लड़की, विवाहित हो या अविवाहित, गरीब हो या अमीर, स्कूली छात्र/ छात्रा हों या स्कूल छोड़ चुके हो) किशोर कहलाएंगे।

कोई जवाब दें