अब कोई नहीं लूट पायेगा ग्राहक को इस एप से फंसेगा, अब ग्राहक अपने को ठगा महसूस नहीं करेंगे वो खुद चेक कर लें, एप लांच

0
358
Spread the love

TOC NEWS @ www.tocnews.org

मुंबई // गुणवंत सिंह बघेल 99670 86023

सामान असली या नकली अब मोबाइल ऍप से पता लगा सकते है अब ग्राहक अपने को ठगा महसूस नहीं करेंगे वो खुद चेक कर लेंगे

मानक ब्यूरो भारतीय से BIS CARE नाम एप लांच किया गया, अब बाजार से जो सामान खरीदेंगे जिसमे ( ISI ) या कोई भी हॉलमार्क का निशान हो अब इस भारतीय ब्यूरो मानक एप  BIS के माध्यम से तुरंत ही पता लगाया जा सकेगा।

इस एप के माध्यम से कोई भी सामान हो चाहे वो फ्रीज़ हो टीवी हो या कोई सोने के आभुषण में हॉलमार्किंग अनिवार्य करने का फैसला लिया गया है ये १ जनवरी से लागू हो जायेगा।  सोने के आभुषण के हॉलमार्क को इस एप से तुरंत पता कर सकेंगे की ये असली है नकली।

केंद्रीय उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान ने एप लांच करते हुए कहा कि सरकार ने उपभोक्ताओं के हितों की सुरक्षा के लिए कई कदम उठाएं हैं और उपभोक्ताओं को इनका इस्तेमाल कर अपने अधिकारों का उपयोग करना चाहिए.

यदि किसी सामान में शिकायत लगती है तो तुरंत आप इसी एप से शिकायत भी कर सकेंगे ,   मोबाइल एप को किसी भी एंड्रायड फोन पर डाउनलोड किया जा सकता है. एप फ़िलहाल हिन्दी और अंग्रेजी में उपलब्ध होगा और इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है.

केंद्रीय मंत्री ने उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 के अंदर के तहत ये अधिकार ग्राहकों को दिए हैं. अब बाजार में आप कोई भी प्रोडक्ट को खरीदते वक्त तुरंत जांच कर सकते हैं कि वह असली है या नकली. ज्वेलरी शॉपिंग के दौरान भी एक मिनट में असली या नकली की पहचान हो सकेगी. ये जांच सिर्फ एक मोबाइल ऐप के जरिए होगी. और यदि लाइसेंस हो या हॉलमार्क नंबर सही नहीं पाया गया तो तुरंत आप मोबाइल एप  से शिकायत करिये अपने रजिस्टर्ड मोबाइल से तो तुरंत शिकायत नंबर आ जायेगा

इस तरह करे आप ये काम

प्ले स्टोर से एप डाउनलोड कर निचे GS1 लिखा होना चाहिए ये एंड्रॉइड और  IOS दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम में मिलेगा।

सामान के पीछे बार कोड को सकें करके असली नकली जांचा जा सकता है।

यदि बारकोड सकें नहीं होता तो बारकोड में लिखे  GTIN को एंटर करिये तुरंत सभी जानकारी आ जाएगी

देखने को मिलेंगी इसमें  मैन्युफैक्चरर, प्राइस, डेट, FSSAI  लाइसेंस जैसी जानकारी उपलब्ध है।

आज विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रेस को संबोधित किया और भारतीय मानक ब्यूरो

@IndianStandards

के मोबाइल ऐप BISCARE और eBIS पोर्टल http://MANAKONLINE.IN

का लोकार्पण किया। अब मोबाइल ऐप के जरिए BIS और इसके द्वारा तैयार मानकों के संबंध में पूरी जानकारी हासिल की जा सकती है। 1/3

कोई जवाब दें